ये है सोने का सही तरीका - Sone ka sahi tarika (in hindi)

सोने का सही तरीका क्या है - sone ka sahi tarika


आपका स्वागत है  Hindimelekh.com परतो आज आप जानने वाले हो की सोने का सही तरीका क्या है  sone ka sahi tarika हर सामान्य मनुष्य का सोने का तरीका और सोने का समय अलग - अलग होता है कई लोग दोपहर को सोना पसंद करते है, तो कई लो शाम को सात बजे सोना पसंद करते है और बोहोत से लोग रात को बारा बजे सोना ठीक समाजते है. 


ऐसे में ज्यादातर लोगो को सोने का सही तरीका और सोने का सही समय पता हि नहीं चल पाता. 

जिसकी वजह से वो अपने सोने के गलत तरीके को कभी सुधार हि नहीं पाते है जिसके कारण उन्हें कई सारी बीमारियों का सामना करना पड़ता है  जिनमे पीठ दर्द, एसिडिटी, मानसिक समस्या, दिल से संबंधित समस्याएं आम हैं.


Contents [ hide ]

 तो आज के इस article में हम आपको बताने वाले है सोने का सही तरीका उसके फायदे और नुकसान क्या है

और इन सभी सोने के सही तरीको को अपना कर इन सभी बीमारियों से आप बच सकते है जिससे की भविष्य में आपको इन परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेंगातो चलिए जानते है की सोने का सही तरीका क्या है..


सोने का सही तरीका क्या है?


जब कोई व्यक्ति योगा या जिम में एक्सरसाइज करता हैतो उस समय शरीर के आसन और कसरत गठन पर बोहोत ध्यान दिया जाता है. क्यों की गलत तरीके से कियी गयी एक्सरसाइज व्यक्ति को पीड़ा ग्रस्त भी कर सकती है. 

ठीक इसी तरह हमारे सोने की स्तिति का भी हमारी सेहत पर अच्छा और बुरा दोनो तरह से असर पड़ता हैखास कर हमारे पाचन तंत्र और दिमाग परआप सभी जानते है की एक अच्छी नींद के बाद हम ज्यादा ऊर्जावान महसूस करते है.

तो बात आती है कीआखिर रात को सोने का सही तरीका क्या है. एक गहेरी नींद से दिनभर की थकान पूरी तरह खत्म हो जाती हैलेकिन जितनी ज्यादा जरुरी एक गहेरी और लम्बी नींद होती है उतनी ही महत्वपूर्ण हमारी सोने की स्तिति भी मनि जाती हैआज 75% से भी ज्यादा लोग सोने के सही तरीके से पूरी तरह अंजान है.


गलत तरीकेसे सोने के नुकसान क्या है

गलत तरह से सोने पर कई लोगो को रात में ठीक तरह से नींद नहीं आतीयातो रातमे बारबार नींद खुलती रहती हैया फिर सोते समय नींद लगने में काफी समय लग जाता है.

इसके अलावा गर्दनकमरकंधे में दर्द शुरू होना. पाचन की गड़बड़ीदिनभर आलस आनापेट ठीक तरह से साफ नहीं होना. और साथसाथ शरिर का रक्त-दाब और यहाँ तक की दिल की सेहत पर भी हमारे सोने का काफी असर पड़ता है.


आपको जानकर हैरानी होंगी की हमारी त्वचा की सेहत और बालो की उत्तमता भी सिर्फ और सिर्फ हमारे सोने के तरीके से प्रभावित हो सकती है.

कुछ लोग अपने दाये हात की तरफ करवट लेकर सोते है तो कुछ लोग बाये हाथ की तरफकुछ लोग पीठ की बल सोते है और कुछ लोग पेट के बल. इन सभी स्तिति का हमारे सेहत पर अलगअलग असर होता है.


पेट के बल सोने के नुकसान क्या है

पेट के बल सोना सबसे हानी कारक माना जाता हैखास कर स्लीप एपनिया और अस्थमा के मरीजो के लिए. क्योकि इस स्तिति में हमारे पेट के साथसाथ हमारे फेफड़ो पर भी दबाव पड़ता हैजिससे सोते समय साँस लेने में मुश्किल पैदा हो सकती है. पेट के बल सोने पर हमारी रीड की हड्डी पर भी जोर पड़ता है.

इसलिए जो लोग ज्यादा तर पेट के बल सोते है उन्हें धीरेधीरे पीठ दर्द की समस्या भी शुरू होने लगती हैऔर साथ ही पेट के बल सोना पाचन क्रिया के लिए भी अच्छा नहीं माना जाता.


 दाहिनी तरफ सोने के नुकसान क्या है

इसके आलावा दाई तरफ या सीधे हाथ की तरफ करवट लेकर सोना भी हमारे सेहत के लिए सही नहीं माना जाता. अगर हमारे शरिर के पाचन तंत्र पर नजर डाली जायेतो आप देखेंगे की हमारा पेट शरिर में, बायीं तरफ होता हैऔर साथ हि हमारा दिल भी शरीर में बायीं तरफ हि मोजूद होता है.


दायी तरफ सोने से इसका हमारे पाचन क्रिया पर भी काफी गलत असर पड़ता हैक्योकि पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण की वजह से हमारा पेटउसकी नैसर्गिक स्तिथि से उसकी विरुद्ध दिशा में हिलने लगता है.


लम्बे समय तक दाये करवट पर सोने पर पेट में मोजूद भोजन भी विरुद्ध दिशा में  सफर करने लगता है. जिससे खाए गए भोजन को पर्याप्त मात्रा में पाचक रस नही मिल पाते और एसिडिटी, खट्टी डकारेपेट फूलनाअपचन और कब्ज जैसी समस्या होने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ जाती है.


sone ka sahi tarika

सोने का सही समय क्या है

से भी सोते हैजिसकी वजह से मोटापा बढ़ता हैदिन में सोने से पाचन तंत्र बिघड़ने लगता है और पेट संबधीत बीमारीया होने लगती है. रिसर्च में पता चला है कीअनियमित समय पर सोने से कई शारीरिक और मानसिक समस्या पैदा हो सकती है. रोजाना निश्चित समय पर नही सोने से नींद चक्र में आए बदलाव से रोगप्रतिरोधक क्षमता कम हो सकती हैजिसके कारन बोहोत से रोग शरीर पर हमला करके उसे रोग ग्रस्त बना सकते है.


इसलिए रोजाना निश्चित समय पर सोना जरुरी होता है. जल्दी सोना और जल्दी उठना सेहत के लिए सबसे अच्छा माना जाता हैजैसे 8 घंटे की नींद होजाये उस हिसाबसे आपको आपके सोने के समय को निर्धारित करना चाहिएसुबह जल्दी उठकर आप ध्यान व्यायाम और अन्य दैनिक कामो को समय दे सकते हैजो स्वास्थ  के लिए आवश्यक है.


तो रात में कितने बजे सोना चाहिए..रात को सोने का सबसे अच्छा समय होता है10 से 10:30 बजे या फिर 11 बजे से आप सो सकते है. ये सबसे ठीक समय होता है सोने के लिए.

इसके अलावा अगर आप सूर्योदय के बाद बहुत देर तक सोते हैतो ये आपके शरीर और मन को नुकसान पोहचता हैअधिकांश लोग ऐसा हि करते हैइसलिए आज मानसिक तनाव से ग्रस्त रहने वाले लोगोकी संख्या बोहोत ज्यादा बढ़ गयी हैक्योकि सूर्योदय के बाद तक सोते रहने से मानसिक तनाव बढ़ता है.


kis karvat sona chahiye



रात में किस तरफ से सोना चाहिए 

आखिर रात में किस करवट सोना चाहिए अगर आप पीठ के बल यानिकी सीधा सोते हैतो ये भी इतना गलत नहीं हैलेकिन उलटे हाथ की तरफ यानिकी बायीं तरफ करवट लेकर सोना सबसे बेहतर सोने की स्तिति मानी जाती है.

क्या आपने कभी सोचा हैकी मात्र एक सोने की करवट बदल देने से हमारी सेहत में कितने कमाल के फर्क आसकते हैचाहे आयुर्वेद हो या मॉडर्न मेडिकल साइंसहर जगा बायीं करवट लेकर सोने को ही सबसे बेहतर माना जाता है.

क्योंकी बायीं तरफ सोने से न सिर्फ हमारा पाचन बेहतर होता है बल्कि ये हमारे दिलदिमागत्वचाबाल और शरीर के प्राकृतिक तरह से विशैले पदार्थो को शरीर से बहार निकालने के लिए अच्छा माना जाता है.

बायीं तरफ सोने से कई तरह के बिमारियो और हेल्थ सम्बंधित समस्याओ में तेजीसे सुधार आने लगता हैआज काफी लोग इससे होने वाले अतभुत फायदों से पूरी तरह अंजान हैऔर कई लोगो की गलत तरीके से सोना एक आदत बन चुकी है.

रात में सोने का सही तरीका 

तो ये है रात मे सोने का सही तरीका, तो आयिए जानते है हमें बायीं तरफ क्यों सोना चाहिएबायीं तरफ करवट लेकर सोने से हमारे शारीर को क्या फायदा होता हैऔर साथ हि गलत करवट में सोने की आदत को जल्द से जल्द कैसे सुधारा  जा साकता है.


ज्यादा तर लोगोको पता है कीहमारी शरीर के परिपत्र प्रणाली (Sercular Systeam) में खून लाने और लेजाने के लिए दो तरह की नसे काम करती है, धमनीया जो की लाल रंग की होती है और दूसरी नसे जो की हरे रंग की होती है और वह हमारे त्वचा पर भी आसानी से दिखाई देती है.


लेकिन इन दोनों के अलावा भी हमारे शरीर में एक और प्रकार का नाडी जाल होता है. जिसे लसीका प्रणाली (Lymphatic System) कहा जाता हैइन नसों में खून नहीं बल्कि एक प्रकार का तरल पाया जाता हैजिसकी मात्रा 17 लीटर तक होती है. 


ये तरल हमारी धमनियों और नसों से हि निकलता है और लसीका प्रणाली के द्वारा दूबारा खून में मिला दिया जाता हैअगर शारीर का लसीका प्रणाली ठीक तरह से काम ना करे तो शरीर में पानी भरने लगेंगा और पैरो में सुजन आजाएँगी और शरीर में इन्फेक्शन फैलने के वजह से व्यक्ति की मौत भी हो सकती है.


लसीका प्रणाली (Lymphatic System) में बहने वाले इस तरल में कई तरह के पोषक तत्व और विशैले पदार्थ दोनों मौजूद होते हैइन नसों के बिच-बिच में गठाने होती है जिन्हें लसीका ग्रंथि (Lymph Node) कहा जाता है,  जिससे  हम बीमारियोंइन्फेक्शनत्वचा रोगो और कई तरह के सेहत से जुडी समस्याओं से बचे रहते है.


आयुर्वेद के अनुसार उलटे हाथ की तरफ करवट लेकर सोने से हमारा लसीका प्रणाली (Lymphatic System) ज्यादा अच्छी तरह से काम करता है, शरीर में मौजूद विशैले पदार्थ जल्दी ख़त्म होते हैऔर हमारे शरीर से विशैले पदार्थ ज्यादा बहेतर तरीके से बाहर निकल पाते है.


रात को बायीं तरफ सोने का फायदे 

pachan kriya

 

बायीं तरफ सोने से पाचन क्रिया में फायदा

बायीं तरफ सोने से हमारा पाचन भी बेहतर तरीके से काम करता हैक्यों की इस स्तिति में भोजन छोटी आत से बड़ी आत में आसानी से प्रवास कर पाता हैजिसकी बदोलत सुबह उठते हि पेट अच्छी तरह से साफ हो जाता है.

क्योकि हमारा पेट शरीर के बायीं तरफ लटका होता हैइसलिए बायीं तरफ सोने से भोजन में सभी पाचक रस अच्छी तरह से मिल पाते है और अग्न्याशय (pancreas) को भी अपना काम करने में आसानी होती है.


kya khaye

रात को सोने से पहले क्या खाए 

आयिए जानते है कीरात को सोने से पहेले क्या खाना चाहिएरिसर्च में पाया गया है कीरात को सोने से पहेले खाने में ज्यादा मसालेदार, ज्यादा भारी या फिर ज्यादा तला हुआ खाना खा लेने से नींद में खराबी आसकती है. तो इसलिए रात का खाना हल्का होना चाहिए.

लेकिन कई लोग है जो रात में खाना नहीं खातेतो ऐसा करना भी गलत होंगाक्यों की भूखे पेट सोने सेसोने के थोड़े समय बाद आपको भूख लग सकती है. तो इस वजह से भी आपको नींद में रूकावट आ सकती है.

रात को सोने से पहले क्या पिए 

खाने से भी महत्वपूर्ण होता है पीनाचाहे आप चाय पिते हैपानी पीते है या फिर कॉफ़ी पिते है. तो अगर आप 7 बजे के बाद चाय, पानी या कॉफ़ी पीते हैतो वो आपके नींद को पूरी तरह से परेशान करेंगा.

या अगर आप सोने से पहले ढेर सारा पानी पीते हैतो इससे आपको बार बार वाशरूम जाने की परेशानी भी हो सकती है. जो की सबसे सामान्य कारणों में से एक है.

पानी पिने का सही तरीका जानने के लिए यहाँ क्लिक करे.


बायीं तरफ सोने के फायदे 

उलटे की बजाए सीधे हाथ की तरफ करवट लेकर सोना ठीक वैसा हि हैजैसे किसी व्यक्ति को उल्टा सर के बल खड़ा कर दिया हो. ऐसे में भोजन ना हि ठीक तरह से पच पाता है और नाहीं आतो में अच्छी तरह से सफर कर पाता है.


heart disease

दिल की बीमारी नहीं होंगी 

हमारा दिल भी शरीर के बायीं और हि मौजूद होता हैबायीं तरफ सोने से दिल का रक्तसंचार अच्छा होता हैखास कर जिन लोगो को दिल से सम्न्धित बिमारिया हैउन्हें हमेशा बायीं और करवट लेकर ही सोना चाहिएबायीं तरफ सोने से दिल की बिमारिया नहीं होतीऔर बायीं तरफ सोना दिल के मरीजो के लिए बोहोत ही लाभ दायक होता है.


गर्भावस्था में सोने का सही तरीका        

ज्यादा तर डॉक्टर गर्भावस्था में महिलावो को बाईं तरफ सोने कि ही सलाह देते हैइससे न सिर्फ शरीर के रक्तसंचार में सुधार आता है बल्कि कमरपीठऔर रीढ़ की हड्डी पर भी जोर कम पड़ता है.

गर्भावस्था के दौरान महिलावो के गर्भाशय का आकार बड़ा हो जाता हैजिसके चलते दुसरे अंदरूनी अंग जैसे की लीवरकिडनीपर दबाव पड़ने लगता हैबाईं तरफ सोने से इन सभी समस्याओ से निजात मिलता है और किडनी तथा लीवर पर इसका भार भी नहीं पड़ता.


बायीं तरफ सोने से एसिडिटी नहीं होती     

बायीं तरफ करवट लेकर सोने से अम्ल प्रतिवाह की समस्याओ में कमाल के फरक नजर आते है. एसिडिटी, छाती में जलन और पाचन में गड़बड़ी जैसी परेशानिया होने पर हमेशा बायीं तरफ ही सोना चाहिए.

बायीं तरफ सोने मासपेशियो में आराम मिलता है     

जिन लोगो को अक्सर कमर और पीठ में दर्द जैसी परेशानिया होती है. उन्हें ज्यादा से ज्यादा उलटे हाथ के तरफ करवट लेकर हि सोना चाहिए. बायीं तरफ सोने से हमारी रीड की हड्डी पर जोर कम पड़ता हैऔर साथ ही पीठ की मासपेशियो में भी आराम मिलता है.

गहरी नींद के लिए फायदेमंद 

बायीं करवट सोते समय हमारे पाचन के साथसाथ रक्त-दाब और सभी अंदरूनी अंगो तथा दिमाग की कार्य प्रणाली भी अच्छी तरह काम करती है. जिन लोगो को सोते समय सास फूलने लगती हैया आप खर्राटो से परेशांन हैतो सोते समय बायीं तरफ में सोने से इस परेशानी में फायदा मिलने लगता है.


Back Pain
रात को बायीं तरफ कैसे सोये 

अब बात करते है कुछ आसान तरीकेजो बायीं तरफ करवट लेकर सोने में मदद करेंगे.

तकिये का इस्तेमाल करके सोये  

दाई तरफ में तकिया रखेऐसा करने से हम अपने शरीर को नींद में करवट लेने से रोक सकते है. दूसरी दिशा में रखा तकिया हमें नींद में पलट ने से रोकता है और धीरे-धीरे हमें बाई तरफ में सोने की आदत पड़ जाती है.

 बायीं तरफ हल्की लाइट जला दे 

हमें जिस तरफ नहीं सोना चाहिए अगर उस तरफ हलका प्रकाश होतो हमारा दिमाग अपने आपको उस तरफ से अपना ध्यान हटाने के लिएहमें विपरीत दिशा में करवट लेने को मजबूर करने लगता हैजिसकी मदद से हमें बाई तरफ सोने में आसानी होती है.

बिस्तर की जगह बदलके सोये  

कई बार सोने की आदतों मेंसोने की जगा बदल देने से भी सुधार आ जाता है. अगर आप बायीं तरफ नहीं सो पाते तो एक बार इस नई आदत की शुरुवात अपने बिस्तर को नई जगह देने से करे, इससे आपको अपनी आदत बदलने में मदद होंगी.

sone ke liye kamra kaisa hona chahiye


सोने के लिए कमरा कैसा हो

ऐसा पाया गया हैकी जो आपका रूम है जहा पर आप सोने जा रहे हैवहा पर अँधेरा है और शांति है तो आपको नींद में काफी हेल्प मिलती है. और ऐसे रूम जहा पर शोर आ रहा हैया फिर बोहोत हि प्रकाश आ रहा हैतो वो भी आपके नीद को बिघाडता है.


तो इसके लिए अच्छे परदो का इस्तेमाल करेदरवाजे अछेसे बंद करके सोये ताकि अंदर आवाज ना आये. और कुछ लोग जिन लोगो के घर पे पालतू जानवर होते हैतो रात में उनको अलग कमरे में रख के सोयेक्योकि उनकी सोने के समय के हिसाब से वो उठ जायेंगे और आपकी नींद को ख़राब करेंगे.


तो इन टिप्स को इस्तेमाल करिए अच्छी नींद लिए बिना आप जीवन में आगे नहीं बढ़ सकते. अगर आप एक छात्र है तो दिन भर जो भी पढाई कर रहे हैवो आपके लम्बी यादाश्त  में जाता है. अगर आप अच्छी नींद नहीं लेंगे तो फ़िर आप चाहे कितना भी पढ़ले फिर भी उसे आप याद नही कर पाएंगे. तो जब आप गहरी नींद लेंगे तभी आप उसे ठिकसे याद कर सकते है.


या फिर इसी तरह आप एक प्रोफेशनल हैआप कुछ कम करते हैतो ऐसे में आप ठिकसे नहीं सो पाए तो अगले दिन आपको सुस्त सा महसूस होंगा और आपको ऐसा महसूस होंगा की आपका दिमाग अच्छा काम नहीं कर रहा हैऔर आपका किया काम ख़राब हो जायेंगा. तो ये कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट है. जिनका उपयोग करके आप सही तरीके से सो सकते है और अच्छी नींद ले सकते है.

तो ये था सोने का सही तरीका...


तो आज आपने क्या सिखा 

तो आज हमने इस पुरे article में जाना है की सोने का सही तरीका क्या है - Sone Ka Sahi Tarika in Hindi. तो आशा करते है की आपको इस raticle के द्वारा काफी मदद मिली होंगी और आपके समस्या का समाधान हुआ होंगा.

अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें Comment Box में पूछ सकते हैऔर इसी तरह के महत्वपूर्ण आर्टिकल पढने के लिए आप हमारी साईट Hindimelekh.com को login कर सकते है. और इस वेबसाइट को बुकमार्क कर लीजियेताकि आपको हमें ढूंडने मे और हमें आपकी मदत करने में आसानी हो.

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो या कुछ सिखने मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मिडिया जैसे की Whatsapp, Facebook, Twitter, Telegram पर शेयर करिए.

और हमें आप सोशल मिडिया पर Follow जरुर करे जहासे आपको New Updates मिलती रहेंगी.

 

Post a Comment

Previous Post Next Post