रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है? और इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi)

रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है? और इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi)

रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या हैऔर इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi)



इम्युनिटी सिस्टम: किसीभी जिव के शरीर में होने वाली उन जैविक प्रक्रियाओ का एक संग्रह मतलब हमारी इम्युनिटीजो की शरीर में होने वाले जीवजंतु viruses) और ट्यूमर कोशिकाओ को शरीर में फैलने से पहले उन्हें मार कर उस जिव की रोगों से रक्षा करती है.

यह विषाणुओं से लेकर किसीभी परजीवी कीटाणु जैसे विभिन्न प्रकार के एजेंट की पहचान करने में सक्षम होती हैसाथ हि यह इन एजेंटो को जिव की स्वस्थ कोशिकाओ और उतकों से अलग पहचान सकती हैताकि यह उन के विरुद्ध प्रतिक्रिया न करे और पूरी प्रणाली साथ मिलके कार्य करे.

ताकि हमारे शरीर में किसीभी प्रकार की बीमारी न हो और अगर किसी व्यक्ति को किसीभी प्रकार की बीमारी हो तो हमारी इम्युनिटी उस बीमारी से लडती हि रहती है और उसे ठीक होने में मदद करती है.

 

रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्यों जरूरी है? (Why immunity power is important in Hindi)

रोग-प्रतिरोधक क्षमता इस लिए जरूरी हैक्योकि जब किसी भी व्यक्ति को कोई बीमारी हो या फिर किसी भी संसर्गजन्य रोग से आपके शरीर को बचाने के लिए आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता का मजबूत होना बोहोत ही जरुरी होता है. इसलिए आपको आपका इम्युनिटी स्तर क्या है यह जानना बोहोत ही जरुरी है.

तो सबसे पहले हम जानेंगे की आपका अभी का इम्युनिटी स्तर कितना है. ये बात आपको कोई ब्लड रिपोर्ट नहीं बता सकता हम असल में आपका एक स्कोर कार्ड बनायेंगे और फिर हम जानेगे माँ प्रकृति के तिन ऐसे नियम जिनको फॉलो करके आप अपनी इम्युनिटी को बोहोत ही जल्दी बढा सकते है. आपको अपनी इम्युनिटी चेक करने से पहले एक महत्त्व पूर्ण बात समजनी होंगी की जो शरीर अन्दर से साफ होंगा उसमे पहले से ही ज्यादा इम्युनिटी होंगीइसको हम एक उदाहरण से समज ते है.

उदाहरण : आप कल्पना कीजिये की दो कूड़ा दान है एक बिल्कुल खली और दुसरे में गंदगी यानि ख़राब कचरा पड़ा हुआ हैआपको क्या लगता है अगर किसी कीटाणु को आना है तो वो किस कूड़ा दान में आकर अपना घर बनायेंग?


रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है, इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi), Causes of low immunity power in Hindi, Low immunity power complications in Hindi,  Symptoms of Low immunity power in Hindi, Why immunity power is important in Hindi,  How to increase immunity power? in Hindi, Immunity power in hindi.



जाहिरसी बात है वो उस कूड़ा दान में आयेंगा जिसमे कचरा भरा पड़ा हैकुछ ऐसा ही हमारे शरीर में होता है जब हम गलत खाना खाते है. और जब हम हमेशा ही खाते रहते हैतो हमारा शरीर अन्दर से गन्दा हो जाता है.

और जो शरीर अन्दर से गन्दा होंगा वो आसानी से कीटाणु को अपनी तरफ आकर्षित करेंगा और जो शरीर अन्दर से बिल्कुल साफ है उसमे कीटाणु आयेंगे हि नहीं. तो अगर आपके शरीर में टॉक्सिन्स यानि गंदगी नहीं है तो आपकी इम्युनिटी अपने आप हि ज्यादा होंगी.

अब आप शायद सोच रहे होंगे की मुझे कैसे पता की मेरा शरीर अन्दर से साफ है या नहीमेरी इम्युनिटी अच्छी है की नहीं हमारे वेदों ने अच्छी इम्युनिटी के कुछ बोहोत ही सटीक लक्षण बताये हुए है.


रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है, इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi), Causes of low immunity power in Hindi, Low immunity power complications in Hindi,  Symptoms of Low immunity power in Hindi, Why immunity power is important in Hindi,  How to increase immunity power? in Hindi, Immunity power in hindi.




इस श्लोक में बोहोत हि विस्तार में इम्युनिटी के 8 लक्षण बताये गए है. हम एक – एक करके हर लक्षण की चर्चा करेंगे और हम चाहेंगे की जैसे जैसे हम चर्चा कर रहे है आप एक जांच की सूची बनाए क्योकि ये समाप्त होते हि आप जानोगे की आपका अभी का इम्युनिटी स्तर कितना है.

 

कमज़ोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता के कारण क्या हैं? (Causes of low immunity power in Hindi)

 1. रोज पेट साफ ना होना 

यानि सही समय पर सही मात्रा में हमारा पेट साफ ना होना. कम से कम दिन में एक बार आपका अच्छी तरह पेट साफ होना चाहिए बिना किसी गोली या चूरन के. सबसे जरुरी है रोज सुबह उठते हि पेट साफ होना. और अगर रोज पेट साफ नहीं हो रहा तो हमें  कब्ज है मतलब जो गन्दगी बहार निकल नि थी वो अब अन्दर हि अन्दर जम रही है. जैसे हमने समजा अगर शरीर में गन्दगी भरी होंगी तो कीटाणु अपने आप आकर्षित होंगे तो अगर आपका हर रोज पेट साफ हो रहा है तो आप इस लक्षण के आगे टिक लगा सकते है.

2. ज्यादा वजन ना होना  

यानि जरुरत से ज्यादा वजन ना होना. अगर रोज पेट अच्छी तरह साफ हो रहा है तो आपका वजन साधारण होंगा जब पेट अच्छी थर से साफ नहीं होता तो वजन बढ़ने लगता है अब आपका वजन ज्यादा है या नही ये हमको बताने की जरुरत नहीं जिसका होता है उसको पता होता है. अगर हमारा वजन ज्यादा है मतलब शरीर में गंदगी जमी है और इम्युनिटी अपने आप हि कम होंगी.

3. त्वचा साफ ना होना

हमारी त्वचा साफ होनी चाहिएआपकी त्वचा आपके अन्दर के शरीर का एक आईना है. हमें मुहासेदाग धब्बे तब होते है जब हमारा अन्दर खून साफ नहीं होता और खून में गंदगी जमी होती है. अगर आपकी त्वचा बिल्कुल साफ है तो आप इस लक्षण के आगे टिक लगा सकते है.

बोहोत ही जल्द आपको अपनी इम्युनिटी का फाइनल स्कोर मिलेंगा सिर्फ पाच और लक्षण बाकी है और इस आर्टिकल को जरुर पुरा पढना क्यों की हम आपके साथ ऐसे तिन टिप्स शेयर करेंगे जिससे बोहोत जल्दी एक-एक करके आपके सारे लक्षण मिलने लगेंगेआईये इम्युनिटी के चौथे लक्षण पर बढ़ते है.

4. आलस ना होना

यानि आपको दिनभर में आलस का अनुभव नहीं होना चाहिए अगर आपको सुबह उठकर फ्रेश नहीं लगता या आपको दिन में नींद आती रहती है मतलब ये लक्षण आपको नहीं मिल रहाहमें आलस तब आता है जब हमारे शरीर अन्दर से साफ नहीं है तो अगर आप दिनभर एनर्जेटिक रहते हो तो ये लक्षण आप टिक कर सकते हो.

5. तेज भूख का अनुभव होना

यानि जब भी भूख लगे तो तेज भूख लगनी चाहिएहम में से कुछ लोगो को तेज भूक का अनुभव  हि नहीं होता पेट हमेशा भरा भरासा रहता है मतलब हमारा पहला खाया भोजन पच नहीं रहा. अगर आपकी इम्युनिटी अच्छी है तो आपको दिन में एक बार तेज भूख लगनी चाहिए  तो अगर आपको दिन में एक बार तेज भूख का अनुभव होता है तो इसे आप टिक कर सकते है,

6. गहरी नींद आना

यानि रात को गहरी नींद आना अगर आप रातको बिच-बिच में उठते रहते है याफिर आपको बेड पे लेटने के बोहोत देर बाद नींद आती है तो मतलब ये लक्षण आपसे नहीं मिल रहा गहरी नींद जब होती है जब आप रातको सोते है और सुबह उठते और लेटते हि पाच मिनिट के अंदर-अंदर आपको नींद आजाती है.

7. कही भी शरीर में दर्द ना होना

मतलब आपके शरीर का कोई भी अंग दर्द नहीं करना चाहिएकभी सर दर्द हो रहा है तो कभी पीठ दर्द ऐसा नहीं होना चाहिए आपके शरीर का कोई भी हिस्सा आपको पुकारना नहीं चाहिए. और अच्छी इम्युनिटी का आखरी लक्षण.

8. सुख का अनुभव होना

आप ही गौर कीजिये की आप दिन भर खुश रहते है या दुखीअगर आपको दिनभर ट्रेस रहता है टेंशन रहती हैछोटी छोटी बात पर गुस्सा आजाता है तो मतलब अभी ये लक्षण नहीं मिल रहाअगर शरीर अंदर से गन्दा है तो इसका प्रभाव मन पे भी पड़ता है

ठीक है तो ये हो गए हमारी अच्छी इम्युनिटी के 8 लक्षणचाहे आपका स्कोर जैसा भी होअब हम आपको बताएँगे तिन ऐसे टिप्स जिनको फॉलो करके आप अपनी इम्युनिटी को बोहोत ही जल्द बढ़ा सकते है.

रोग-प्रतिरोधक क्षमता को कैसे बढ़ाए? (How to increase immunity power in Hindi)

 

रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढाने के 3 Steps

अपने पहले steps पे बढने से पहले हमें एक चीज को समजनी होंगी हम साधारणता सोचते है कीअरे मुझे कोई आसान सा टॉनिककाड़ा या दवाई दे दो जिससे मेरी इम्युनिटी बढ़ जाये लेकिन मै अपनी आदते नहीं बदलूँगा अपने पराठे तो नहीं छोडूंगा हम आपको बताना चाहेंगे ऐसा नहीं हो सकता.

क्योकि जबतक हम उन आदतों को नहीं छोड़ेंगे जो हमसे हमारी इम्युनिटी छीन रहे है तब तक हम कोई टॉनिक लेके अपनी इम्युनिटी कैसे बाढा सकते है.

Immunity cannot be swallpwed in a pill or a glass

it is the result of what you eat and how you live”

 

तो चलिए अपने पहले स्टेप पे आते है. एक चीज जो दुनिया भर के लोग कर रहे है अपनी इम्युनिटी बढाने के लिए वो है उपवास यानि (fasting).


रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है, इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi), Causes of low immunity power in Hindi, Low immunity power complications in Hindi,  Symptoms of Low immunity power in Hindi, Why immunity power is important in Hindi,  How to increase immunity power? in Hindi, Immunity power in hindi.





वेद : {लंगनम् परमं औषधम् }मतलब उपवास ये सबसे बड़ी औषधी है. हर शास्त्र हमें ये बताता है आज हमें science भी वही चीज बता रहे है इतनी सारी रिसर्च बता रही है की कैसे इम्युनिटी सिस्टम को फिरसे बनाने का सबसे अच्छा तरीका है उपवासये सारी साइंटिफिक रिसर्च की लिंक आपको इस article के अंतिम भाग में मिल जाएँगी.


अब आप फास्टिंग का नाम सुन के डर मत जाना सिर्फ आपको इतना करना है की,

1) अपना dinner शाम 6 बजे से पहले खाले

6:00 बजे से लेकर अगले दिन 10:00  बजे तक कुछ न खाए तो हर रोज 16 घंटे के लिए आपका शरीर उपवास करेंगा.

अब आइये समजते है रोज 16 घंटे उपवास करने से आपकी इम्युनिटी कैसे बढती है देखिये आपके अन्दर एक शक्ति बैठी है एक रक्षक बैठा है जो कीटाणु से लढता है इसके दो मेन काम है digestion यानि खाने को पचाने का काम और healing यानि शरीर को साफ करने और कीटाणु को मारने का काम.

और हम क्या करते है सुबह से लेकर रात तक कुछ न कुछ खाते ही रहते हैपहले वाला खाना अन्दर से उतरा भी नहीं की हम उपर से और डाल देते है खाने के बिच में भी पेट को खाली नहीं छोड़ते चिप्स और बिस्किट हर बार खाते हि रहते है.

और जब हम हमेशा खाते रहते है तो दिन में 24 घंटे हप्ते में सातो दिन हमारा रक्षक हमेशा दिन भर में जो आप खाते है उसे पचाने में ही लगा रहता है और उसको शरीर को साफ करने या पेट में आये हुए कीटाणु को मारने का टाइम ही नहीं मिलता.

अगर आप चाहते है की आपका रक्षक healing करे तो आपको समय – समय पर digestion को ब्रेक देना होंगा तो जब आप शाम को 6:00 बजे के बाद खाना बंद कर देंगे तो क्या होंगा.

अगर आपका dinner हल्का है तो आपका रक्षक उसे 5 से 6 घंटे में पचा लेंगा और जैसे ही पाचन प्रक्रिया ख़तम हो जाएँगी तो रक्षक क्या शुरू कर देंगा, healing तो बाकि 10 घंटे आपका healing टाइम होंगाइस दौरान आपका रक्षक आपके अन्दर जो भी वेस्ट पड़ा है उसे बाहर निकालेंगा और शरीर को साफ करने और कीटाणु को मारके आपको उनसे सुरक्षित रखेंगा जब आप रोज 6:00 बजे से पहले खाना शुरू कर देंगे तो आपके रक्षक को हर रोज अपने आप 10 घंटे आपके शरीर की सफाई करने के लिए मिल जायेंगे और याद रखिये

"highly clean body = highly immune body"

6:00 बजे के बाद आप चाहे तो पानी ले सकते है और सुबह 10 बजे से पहले आप जूस ले सकते है किसी भी सब्जी का जूस लेकिन अपने उपवास के समय चायकॉफ़ीफल का जूसया सूप आपको नहीं लेना है.

आपको लगेंगा बस इतना करने से मेरी इम्युनिटी बढ़ जाएँगी. हा उपवास करना आसान तो है लेकिन बोहोत असरदार भी क्या आप जानते हैअभी अभी नोबेल प्राइस किसको मिला एक जापनिस साइंटिस्ट कोजिसने प्रूफ किया की उपवास करने से हमारे शरीर में जो मरी हुई कोशिकाए यानि की ded sels है वो निकलते है.

रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है, इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi), Causes of low immunity power in Hindi, Low immunity power complications in Hindi,  Symptoms of Low immunity power in Hindi, Why immunity power is important in Hindi,  How to increase immunity power? in Hindi, Immunity power in hindi.





यही चीज हमारे वेदों ने हमें हजारो साल पहले बोली थी आज पूरी दुनिया इसको अपना रही है. चलिए अब हम हमारे इम्युनिटी बढाने के दुसरे स्टेप पे आते है.

2. नाश्ते में सिर्फ फल खाए

जब आप सुबह 10 बजे उपवास तोड़ते है तब अपना कोई भी मन पसंद फल खा लीजिये सबसे अच्छा तो ये रहेंगा की आप एक बार में एक हि फल खाए अगर वो नहीं कर सकते तो कोई बात नहीं 2-3 फल साथ में खालीजिये.

रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है, इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi), Causes of low immunity power in Hindi, Low immunity power complications in Hindi,  Symptoms of Low immunity power in Hindi, Why immunity power is important in Hindi,  How to increase immunity power? in Hindi, Immunity power in hindi.






लेकिन ब्रेडपराठाइडलीडोसापोहाचिवड़ाउत्तपारोटीउपमाचायकॉफ़ी ये सब बिकुल नहीं खाना सिर्फ ताजे फल खाने है ब्रेकफास्ट में क्योकि फलो को पचाना बोहोत हि आसान होता है इनको पचने में सिर्फ 3 घंटे लगते है और आपको पता है अनाज को पचाने में कितना टाइम लगता है करीबन 18 घंटे तो जब हम नाश्ते में अनाज की जगह फल खायेंगे तो आपका रक्षक पचाने के काम को जल्दी से ख़त्म कर healing पे लग जायेंगा.


रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है, इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi), Causes of low immunity power in Hindi, Low immunity power complications in Hindi,  Symptoms of Low immunity power in Hindi, Why immunity power is important in Hindi,  How to increase immunity power? in Hindi, Immunity power in hindi.



एक और बात फल अपने आप में  ही शुद्धी कारक भोजन है ये शरीर में जाकर चिपकते नहींगंदगी नहीं बनाते बल्कि जो गंदगी जमी है उसको भी साफ करते है क्योकि इनमें बोहोत पानी होता है दुसरी तरफ जो भारी नाश्ता होता है उसको पचाना बोहोत मुश्किल होता है और ये अन्दर जाके गंदगी बनाता है.

आप ये सिर्फ एक हफ्ता करके देखिये और तब आप देखेंगे की एक-एक करके आपके अच्छी इम्युनिटी के सारे लक्षण मिलने लगेंगे.

जैसे की : -

1.      अगर आपका ज्यादा का वजन है तो वो अपने आप ही घटने लगेंगा

2.       कभी यहाँ दर्द कभी वहा दर्द ये सब चला जायेंगा

3.      आप जब सुबह उठेंगे तो कोई आलस नहीं होंगा.

4.      एकदम फ्रेश और एनर्जेटिक महसूस करेंगे

5.      आपको नींद बोहोत गहरी आने लगेंगी

6.      असली भूख का अनुभव होने लगेंगा

7.      आप दिनभर बोहोत खुश रहेंगे

8.      त्वचा साफ होने लगेंगी

 

आप खुद करके देखियेएक और बात आप इसको अकेले मत कीजिये पूरी फॅमिली के साथ कीजिए उन सभी को इसके बेनिफिट के बारे में बतायेजब फॅमिली साथ करती है तो ये काम और भी ज्यादा आसान हो जाता है.

तो पहले दो स्टेप तो जरुर फॉलो कीजिये अब हम आपके साथ इम्युनिटी बढाने की  तीसरी स्टेप share करते है.

3. दिन में सिर्फ 1 बार अनाज खाए

mmunity power in hindi.




तो आपका food plan कुछ ऐसा दिखेंगा सुबह 8 बजे कोई भी सब्जी का जूस सफ़ेद पेठे का जूसखीरे का जूसनारियल पानीग्रीन जूसआप कोई भी फ्रेश जूस ले सकते हो. फिर नाश्ते में सुबह 10 बजे कोई भी एक फल ले लिजिये

फिर लंच में दोपहर 1 बजे कोई भी एक अनाज4 गुना सब्जी के साथ रोटीचावल कुछ भी ले लीजिये लेकिन उसमे 4 गुना ज्यादा सब्जी होनी चाहिए

फिर डिनर में सलाद या सूप ले लीजिये लेकिन आपने डिनर में फिरसे अनाज नहीं खाना क्योकि इस plan में जरुरी है की आप अनाज दिन में एक ही बार ले इस plan को “one gren meel a day” भी बोला जाता है. दुनिया भर में लोग इसको फॉलो करके इसका फायदा ले रहे है.

 

मनुष्य का शरीर माँ प्रकृती का दिया बोहोत अमूल्य तौफा है बोहोत जल्द हम उनको ये वापस लोटा देंगे और जबतक ये हमारे पास हैहमारी जिम्मेदारी है की हम इसको साफ रखे.

जब आपकी इम्युनिटी स्ट्रोंग होंगी आप सिर्फ खुदको हि नहीं बल्कि आस पास के बोहोत सारे लोगोको को बचावोंगे कृपया करके इस आर्टिकल को आप उन सभी लोगोके के साथ share कीजिये जिनकी आप परवाह करते है.

 

सबसे अधिक पूछे जाने वाले सवाल (FAQ’S)

Q1. कमज़ोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता को कैसे बढ़ाया जा सकता है?

Ans- मुख्य रूप से खान-पान में बदलाव करके और एक्सरसाइज करके और अपने साफ सफाई का ध्यान रख कर और भी कई सारी सावधानिय बरत कर आप कमजोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढा सकते है.

 

Q2. क्या लक्षण है लो इम्युनिटी पावर के?

Ans- अगर किसी भी व्यक्ति को बार-बार खासीजुखाम याफिर बुखार आना ऐसी समस्याए और जखम जल्दी न भरनाबार-बार इन्फेक्शन याफिर फ्लू होना. ये सभी लो इम्युनिटी पॉवर के लक्षण होते है. यदि कीसी व्यक्ति में यह लक्षण पाए जाते है तो उसे जल्द से जल्द अपनी सेहत की जाँच करवा लेनी चाहिए.

 

Q3. रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए?

Ans- सबसे अच्छा रहेगा की आप बाहर का खाना बंद कर दे और घरका बना खाना खाए और रात का खाना थोडा लाइट रखेजैसे आपने ऊपर पढ़ा होंगा उपवास रखे. और खाने में खट्टे फलब्रोकलीअदरकलहसुन इत्यादि का सेवन करेइससे आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता काफी हद तक बढ जाएँगी.

 

 

Q4. रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए कौन-से घरेलू नुस्खे अपनाए जा सकते हैं?

Ans- रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ने के लिए आप डेली एक्सरसाइज करेहेलथी फूड खाए रोजाना सुबह धुप में कुछ समय बितायेऔर आप नीबू पानी भी पी सकते हैशहद का सेवन करे और रात को सोते समय काड़ा जरुर पिए.

 

Q5. कमज़ोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता के कारण क्या हैं?

Ans- कमजोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता के बोहोत से कारन होते है. जैसे नशीले पदार्थ का सेवन करनासफेद सेल्स का कमजोर होनाधुम्रपान करनाबहार का जंक फूड खानानींद पूरी न होनासमय पर भोजन न करना. ये सभी कमजोर  रोग-प्रतिरोधक क्षमता के कारण है.

 

Q6. किसी व्यक्ति के बीमार होने के कारण क्या हैं?

Ans- यदि कोई व्यक्ति पर्याप्त नींद न लेनासमय पर भोजन न करनाएक्सरसाइज न करना अगर कोई व्यक्ति ऐसा करता है. तो ऐसे व्यक्ति की संभावना बोहोत बढ़ जाती है  

 

Q7. रोग-प्रतिरोधक क्षमता को संतुलित कैसे बनाया जा सकता है?

Ans- रोग- प्रतिरोधक क्षमता को आप संतुलित बनाए रख सकते है. उसके लिए ज्यादा से ज्यादा सब्जियों और फलो का सेवन करनाअच्छी तरह से हाथो को साफ रखनाधुम्रपान और शराब का सेवन न करना इत्यादि को करने से आप अपनी रोग- प्रतिरोधक क्षमता को संतुलित रख सकते है.

 

·     आज आपने क्या सिखा?

     तो आज हमने इस complete article में जाना है की रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या हैइसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi) तो आशा करते है की आपको इस लेख के द्वारा काफी मदद मिली होंगी और आपके समस्या का समाधान हुआ होंगा.

हमारी हमेशा यह कोशिश रहती है की reders को किसी भी पोस्ट के बारे पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे site या internet पर उस article को खोजने की जरुरत न पड़े.

इससे reders का समय भी बचेंगा और एक हि जगह पर सभी तरह की information भी मिल जाएँगी. अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें comment box में पूछ सकते हैऔर इसी तरह के helpful articles पढने के लिए आप हमारी site Hindimelekh.com को Login कर सकते है. और साथ ही आप हमारी Website को Bookmark कर लीजियेताकि आपको हमें ढूंडने मे और हमें आपकी Help करने में आसानी हो.

अगर आपको यह post रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या हैइसे कैसे बढ़ाए? Immunity power in Hindi पसंद आयी हो या कुछ सिखने मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को Social Media जैसे की Whatsapp, facebook, Twitter, Telegram पर  share कीजिये.

 

 

धन्यवाद ...!

 

 

 

Tags:  Causes of low immunity power in HindiLow immunity power complications in Hindi, Symptoms of Low immunity power in HindiWhy immunity power is important in Hindi, How to increase immunity power? in Hindi, Immunity power in hindi.

 

0 Response to "रोग-प्रतिरोधक क्षमता क्या है? और इसे कैसे बढ़ाए? (Immunity power in Hindi)"

Post a Comment

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article