KGF Full Form क्या है और उसके पीछे की सच्चाई 2021

KGF Full Form क्या है और उसके पीछे की सच्चाई 2021

आपने साउथ की सुपर हिट फिल्म KGF के बारे में जरुर ही सुना होंगा. या हो सकता है आपने KGF Movie देखि हो और आपको उसकी पूरी स्टोरी पता हो, लेकिन अभी बोहोत से लोगो ने KGF रियल स्टोरी के बारे में नहीं पता.

और जिन्हें नही पता उन्हें लगता है की KGF सिर्फ एक फिल्म तक ही सिमित है. लेकीन ऐसा नहीं है, KGF एक प्राचीन इतिहास में घटी हुयी सच्ची घटना है. तो अब KGF के बारे में हम आपको विस्तार से बताएँगे की, KGF Full Form क्या है इसका नाम KGF कैसे पड़ा और उसके पीछे की सच्चाई 2021, तो चालिये जानते है.

kgf ka full form,kgf full form kya hai,kgf full meaning,kgf full form movie,kgf full form in english,kgf full form in hindi,

KGF Full Form क्या है

KGF फिल्म साउथ की एक बोहोत ही प्रसिद्ध फिल्म है, जो 2018 में आयी थी. जिसे की लोगो न बोहोत ही ज्यादा पसंद किया, KGF फिल्म को एक प्राचीनतम कहानी पर बनाया गया है.

एक बहुत ही प्रसिद्ध सोने की खदान पर आधारित है, लेकिन बोहोत से ये बात नहीं जानते की KGF Movie सिर्फ एक मूवी तक ही सिमित नहीं है, बल्कि ये एक रियल स्टोरी है.

KGF Full Form मतलब इसका पूरा नाम kolar Gold Field है. ये एक जगह का नाम है जिस पर ये KGF Movie बनायीं गयी है. केजीएफ एक ऐसी जगह है जहा पर सन 1900 से लेकर 2001 तक सोने की माइनिंग की जाती थी.

केजीएफ यह जगह कर्नाटका के कोलार जिले में मौजूद है. तो अगर आपको KGF की पूरी सच्चाई जाननी है. तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े क्योकि इसमें केजीएफ के बारे में पूरी जानकारी दियी गयी है.

इसका नाम KGF क्यों पडा ?

जब भारत में ब्रिटिश हुकूमत थी, उस दौरान कर्नाटक के बंगलुरु से लकभक 100km. की दूरी पर कोलार जिले के पास जब खुदाई की गयी थी तब एक ब्रिटिश व्यक्ति “Mishal Aflvela” को वहा पर सोने को सुराख़ मिले.

और फिर उन्होंने उस पुरे इलाके में और जगह खुदाई की तब उन्हें पता चला की उस Field में बोहोत सारा सोना मौजूद है.

 

और इसी वजह से उन्होंने उस Field में माइनिंग का काम शुरू कर दिया और वो जगह kolar जिले के पास होने की वजह से उसे “kolar Gold Field” नाम दिया गया और आज उसी नाम को “KGF” के नाम से जाना जाता है.

 

KGF कहा पर स्थित है (Map)

यह भारत के कर्नाटक राज्य के, कोलार जिले से 100km. की दुरी पर स्थित है.

कोलार गोल्ड फील्ड का पूरा पता: 6 क्रोस रोड, स्वर्ण नगर,

रॉबर्टसनपेट, कर्नाटक पिनकोड -563122 


kgf ka full form,kgf full form kya hai,kgf full meaning,kgf full form movie,kgf full form in english,kgf full form in hindi,


Kolar Gold Field से अभीतक कितना सोना निकला गया 

भारत 1905 में सोने के उत्पादन के लिए दुनियाभर में से छठवे स्थान पर था. उस समय यहा सालाना औसतन 19.5 टन सोना निकाला जाता था 

Kolar Gold Field से 1880 से लेकर 2001 के बिच यानी की 121 सालो में लकभग 800 टन सोना निकला जा चूका है


KGF क्या है और उसकी संपूर्ण जानकारी

KGF के बारे में संपूर्ण जानकारी और कुछ रहस्यमय और दिलचस्म बाते जिन्हें जानकर आप हैरान हो जायेंगे तो चलिए जानते है.

 

कर्नाटक के बंगलुरु से लकभक 100km. की दूरी पर कोलार गोल्ड फील्ड स्थित है. जो भारत की सबसे पुरानी सोने की खान है, ये इतनी पुरानी है की सिंधुघाटी सभ्यता से लेकर ब्रिटिश हुकूमत और फिर आझाद भारत तक को भरपूर सोना देती रही.

 

कोलार गोल्ड फिल्ड के अन्य शाशक भी थे जैसे

1.     सबसे पहले - गंगास

2.     900 इसवी से 1000 इसवी – चोला साम्राज्य

3.     1300 इसवी से 1600 इसवी – विजय नगर साम्राज्य

4.     1600 से 1800 - मराठा और हैदराबाद के निजाम

5.     हैदर-अली से अंग्रेज शाशको तक ने कोलार गोल्ड फिल्ड पर माइनिंग कीयी थी.

 

अंग्रेज शाशको ने भी कोलार की खानों से बोहोत सारा सोना निकाला, सदियो तक KGF से दक्षिण भारत के शाशको को भारी मात्रा में धन की प्राप्ति हुयी.

 

Kolar Gold Field ये भारत के सबसे गहरे खदानों में से एक थी जहा 1980 और 1990 के दशको में धरती के सतह से 3km. निचे खुदाई होती थी. केवल दक्षिणी आफ्रिका की कुछ खदाने ही इससे ज्यादा गहरी है.

 

उन्नीसवी सदी के अंतिम वर्षो में ब्रिटिश खनन कंपनी “जॉन टेलर” ने KGF में खुदाई के काम को हाथ में लिया और उन्होंने बड़ी बड़ी मशीने लगायी जिससे की माइनिंग का प्रोडक्शन तेजी होने लगा और जिससे KGF में गोल्ड के लिए माइनिंग और गोल्ड प्यूरिफिकेशन का काम तेजी से होने लगा.

 

लेकिन जो सोना था वो चूरे के रूप में था और मिट्टी से मिला हुआ था, सोना किसी ठोस आकर में ना होने के कारण इसे निकालने में काफी मशक्कत करनी पड़ती थी जिसके चलते बड़ी बड़ी मशीनों का सहारा लेना पड़ा.

 

लेकिन यहाँ पर एक बड़ी समस्या थी वो थी यहाँ पर बिजली का ना होना. उस समस्या को दूर करने के लिए यहा हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट्स लगाये गए. जिससे शिवाना समुद्र के ऊपर से बिजली पैदा करने का काम किया गया.

 

जिसकी वजह से भारत एशिया में पहला ऐसा देश बना जहा पर हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट्स के जरिये बिजली उत्पन्न कियी गयी थी. और हा उसी प्लान्ट को आज के समय कावेरी इलेक्ट्रिक पॉवर प्लान्ट के नाम से जाना जाता है.

 

केजीएफ- गोल्ड माइन के लिए बनाया डैम

आपको को पता होंगा की सोने को मिट्टी से अलग करने के लिए पानी की जरुरत पड़ती है. और वही KGF बोहोत सारा सोना ज्यादा मात्रा में मिट्टी के साथ मिला होता था.

 

इसी वजह से सोने को मिट्टी से अलग करने के लिए बोहोत ज्यादा मात्रा में पानी की जरुरत पड़ती थी. और बड़ी बड़ी मशीनों के इस्तेमाल की वजह से वहा पर पानी की जरुरत बढ़ने लगी.

 

और उसी जरुरत को पूरा करने के लिए उन्होंने “पलार रिवर” में एक डैम बनाया और वहि से पानी की कमी को पूरा किया जाने लगा और साथ ही साथ उस डैम से जो पानी निकलता था उसका उपयोग करके बिजली भी जनरेट की जाती थी.

 

KGF में सोना निकालने के लिए और सोने को मिट्टी से अलग करने के लिए जो मशीने शामिल थी उन मशीनों की खास बात ये थी की वो अपने आप ही मिट्टी को सोने से अलग कर देती थी.

जिससे काम और भी आसन हो जाता था और उस काम के लिए मजदूरो को कोई पैसे नहीं देने पड़ते थे

 

KGF को क्यों गिरवी रखा गया

जब 1956 मे ब्रिटिशो की आजादी के बाद भारत की आर्थिक स्थिति कमजोर होने की वजह से तब के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने वर्ल्ड बैंक से लोन लेने के लिए  KGF को गिरवी रखने का फैसला किया.

KGF जो की दुनिया की सबसे बड़ी खदानों में से एक है और उस वक्त देश पर बनी मज़बूरी की वजह से KGF को गिरवी रखना पड़ा ताकि भारत की आर्थिक परिस्थिती में सुधार आये.

 

केजीएफ- से हुए पर्यावरण में दुष प्रभाव

खुदाई से निकले मलबे से करीब 30मीटर के करीब उची हिल्स बन गयी है. इसके गठन के प्रकृति के कारण इस जगह पर पौधे नही उग रहे है, ये पहाड़ी शहर और खदानों का एक लुभावना दृश प्रदान करती है.

 

Silicosis जो की एक फेफड़ो की बीमारी है जो की माइनिंग के दौरान पैदा होने वाले पार्टिकुलेट

मेटल के एन्हेलेशन के करण होती है ये बीमारी पहली बार KGF में ही पहचानी गयी थी.

 

माइनिंग कर कर के इस जगह को इतना गहरा कर दिया था की, अगर कोई इन्सान इसके अन्दर चला जाता था to वहा पर उस ऑक्सिजन ना मिलने के कारण उसकी मौत हो जाती थी.

 

और समय के साथ साथ इस खदान में से मौतों का आकड़ा लगातार बढने के वजह से 2001 में भारत सरकार ने इस खदान को पूरी तरह बंद कर दिया था.

 

 

केजीएफ- कब और क्यों बंद हुआ

1956 में भारत के आझादी के बाद इन खदानों का राष्ट्रियकरण हो गया था. और 1970 में बीजीएम्एल (Bharat Gold Mines Limited) ने इन खदानों को अपने हाथ में लिया और उसपर काम करना शुरू किया.

 

उन्हें शुरवात में तो सफलता मिली, लेकिन कुछ समय बाद भारी-भरकम स्टाफ के साथ कंपनी का फायदा नही हो पा रहा था. और कंपनी के ऊपर कर्ज का आकड़ा लगातार बढ़ रहा था.

 

फिर बादमे इसे बीमार इकाई घोषित करके इसके स्टाफ को 8800 से 3500 तक कम कर दिया.

 

लेकिन फिर भी काम नही बना जिसके चलते 2001 में KGF (kolar Gold Field) बंद करना पडा और करीब 13 हजार एकड़ में फैला कोलार गोल्ड फिल्ड अब किसी भुतिया कस्बे जैसा हो चूका है.

 

लेकिन अब सोने की कीमते तब की तुलना में चार से पाच गुना बढती जा रही है. और संभावना है की आगे भी और बढे इसलिए इस गोल्ड माईन को फिरसे चालू करने की योजना है. 

 

2016 में नरेन्द्र मोदी सरकार ने KGF की नीलामी की घोषणा कियी, लगता है की दक्षिण भारत का जो प्रथम विद्युतिकृत शहर था जो की अभी भुताह शहर की शक्ल में है. इसलिए लगता है की उसका भाग्य एक बार दुबारा खुल सकता है.

 

 

KGF Movie के बारे में पुरी जानकारी

आपकी जानकारी के लिए बता दे की कोलार गोल्ड के ऊपर एक मूवी भी बनी है. जो की एक कन्नड़ मुवी है, जिसका नाम K.G.F रखा गया है.

 

जिसे हिंदी में भी डब किया गया है KGF ये एक सच्ची कहानी है जिसे फिल्म के जरिये दर्शाया गया है. लेकिन फिल्म में ज्यादातर सीन्स बढ़ा चढ़कर बताये गए है.

 

KGF मूवी में हीरो का नाम “यश” है, जो की रॉकी का किरदार निभा रहे है. लेकिन सच्चाई कुछ अलग ही है.

 

रियल स्टोरी में रॉकी का नाम रॉकी नहीं “राउडी थंगम” है जो किरदार यश ने बखूबी निभाया है, जो की मुंबई का गैंगस्टर था जैसे की मूवी में बताया गया है. और इसके डायरेक्टर प्रशांथ नील है और इस मूवी के प्रोड्यूसर विजय किरागंदुर है.

 

इससे पहले भी K.G.F: chapter 1 रिलीज हो चूका है, जो की बॉक्स ऑफिस में सुपर हिट मूवी रही है. और K.G.F Chapter 1 रिलीज होने के बाद पहले हप्ते में ही उस मूवी ने worldwide 250 करोड़ कमाये थे. जिसे लोगो ने बोहोत पसंद किया था.

 

और उसीके चलते K.G.F Chapter 2 भी निकाला गया है जिसका लोग बेसब्री से इंतजार कर रहे है. जिसके Teaser ने YouTube पर सिर्फ 38 घंटे में 100 मिलियन व्यूज क्रोस कर दिये थे.

 

                                           


 

 

K.G.F: Chapter 2  की रिलिसिंग डेट 16 जुलाई 2021 बतायी गयी है.

और अगर बात करे KGF Movie के दुसरे कलाकारों की, तो इस मूवी में आपको नए कलाकार देखने को मिलेंगे, जैसे इस मूवी में आपको, यश – जो की “रॉकी” का किरदार निभाते दिख रहे है. और वही संजय दत्त – जिन्होंने काफी अच्छी तरीके से “अधीरा” का किरदार निभाया है.

 

उसीके साथ अबतक जो यश के बॉडीगार्ड थे जो की है, रामचंद्र राजू इस मूवी में “गरुडा” का किरदार निभा कर बेस्ट विल्लेन बनकर उभरे है. इस फिल्म में हिरोइन का रोल श्रीनिधि शेट्टी ने निभाया है जो की “रीना ” के किरदार में है.

और फेमस बॉलीवुड एक्ट्रेस रवीना टंडन जो KGF Movie में “रमिका सेन” का किरदार निभा रही है. और उन्होंने इस किरदार को बखूबी निभाया है.

 

 

KGF Movie HD Download Link :

KGF Chapter -1 Full HD Movie डाउनलोड Link

 



KGF Chapter -2 Full HD Movie डाउनलोड Link - COMING SOON...


 




तो अब आपको ये तो पता चल ही गया होंगा की KGF ये केवल Movie ही नहीं बल्कि इसके पीछे भी एक बोहोत बड़ी कहानी है जिसपर KGF के 2 Chapter बने है जिनको लोगो द्वारा काफी ज्यादा पसंद किया गया है इसीलिए लोगोको दुसरे चैप्टर का बड़ी बेसबरी से इंतजार है.

 

तो हम उम्मीद करते है की आज का ये अर्टिकल आपको बोहोत पसंद आया होंगा और अब तो आपको KGF Full Form 2021 भी पता चल गया होंगा और साथ ही आपको ये भी पता चल गया होंगा की, इसके पीछे की कहानी क्या है इसलिए इस आर्टिकल को मूवी देखने वाले लोगो के सात शेयर जरुर करे|

 

 

ऐसेही हर जानकारी को अपनी भाषा हिंदी में प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज और इन्स्टाग्राम पगे को जरुर फॉलो करे जहा आपको हर बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है, हमारे पेज को फॉलो करने के लिए हमारे होमपेज पर जाये.

0 Response to "KGF Full Form क्या है और उसके पीछे की सच्चाई 2021 "

Post a Comment

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article